include_once("common_lab_header.php");
Excerpt for Mera Pyaar by , available in its entirety at Smashwords

MERA PYAAR


****


हिरण्य बोराह



Copyright 2018 Hiranya Borah


Smashwords Edition







Smashwords Edition, License Notes



Thank You for downloading this ebook. This book remains the copyrighted property of the author, and may not be redistributed to others for commercial or non-commercial purposes. If you enjoyed this book, please encourage your friends to download their own copy from their favourite authorized retailer. Thank you for your support.

प्रस्तावना

हिन्दीमे अत्याधिक ख़राब होने के बाजूद भी मेरा यह एक प्रयास मात्र हें हिन्दीमे कुछ लिखने का. अगर आप्लोगोको यह प्रयास अच्छा लगेतो मेरा बेहद ख़ुशी होगी.

हमेशा मेरा साथ देने के लिए में SMASHWORDS Publicationको बहुत बहुत धन्यवाद देता हु

कवि

अगर तुम ना होते

अगर तुम ना होते,

मैं शायद दुखी ना होता.

शायद मेरा नाज़ुक सा दिल,

आज भी मेरे साथ होता.

उड़ान

एक फूलोको मुस्कुरानेकेलिए,

एक भवरका चुम्बन जरूरी हें.

एक भव्राको आकाशको चुने के लिए,

एक फूलोका मुस्कुरानाभी जरूरी हें.

आसमान

में नही जानता,

आसमान कितना उशी हें

सागर कितना गहरा हें.

चिरिया जैसे पंख नही हें मेरा,

ताकि मे असमान भी माप लू.

ना मछली जेसा मेरा तन हें,

सागर का गहराई तक पहुच पाता.

लेकिन मेरा दिल कहता हें,

मेरा दर्द असमान से भी उचा हें,

और मेरा प्यार सागरसे भी गहरा हें.

तुम्हारेलिये में जान ले भी सकता हु,

तुम्हारेलिये में जान दे भी सकता हु.

दो पैग के बाद

तेरी जुल्फों में मेरा वादा है,

तेरी आँखो में मेरी आशा है;

लेकिन तेरी नज़ाकत में जो नशा है;

वो मेरी धड़कन है ;

उसके आगे तो सब फ़ीका पड़ जाता है.

शिकार

ग़ालिब तो तेज़ शिकारी थे,

हमेशा उनका तीर निशाने में होता.

मैं तो हमेशा शिकार ही रहा हूँ,

हर हसीना का हर तीर

मेरे सीने से आर-पार होता है.

दर्द

तुमने मुझे जितना दर्द दिया ,

एक जिन्दगी जीने के लिए काफी है.

और जितना प्यार दिया

एक मौत के लिए इतना ही काफ़ी है.





अंधा प्यार


Purchase this book or download sample versions for your ebook reader.
(Pages 1-4 show above.)